Home > Programs > Barefoot Media: A Workshop on Community Journalism 10-14 Nov’17
10 November, 2017
10:00 AM
Join us

Join us:


Barefoot Media

A Workshop on Community Journalism

Organized by Media Action and Research Group and Sambhaavnaa Institute

November 10-14, 2017

Background

Most of us grew up reading newspapers and listening to the radio for news to know about what is happening in our state, our country and the world. But in the past two decades, we have witnessed a set of new forms of media taking birth, evolve, and thrive. Today, every single minute creates news, stories and opinions through various media platforms ranging from print, TV and the digital.  All these media contribute in shaping our opinions, change the ways in which we see and feel the things around us, and impacts our personal, social and political choices.

In such an environment, media is an important entity to learn about, to gauge and play with, and to assert ourselves through our stories as citizens in the existing socio-political space. It is an important tool to keep handy as we try to uphold our constitutional rights, hold political institutions responsible, and keep alive our unique arts and culture.

About the workshop

The Barefoot Media Workshop offers a complete guide to become a barefoot journalist or a community communicator.   When we see some social, political or cultural relevance to an event or incident, and start sharing the facts, views and opinions about that event, it starts evolving to be media. When this process culminates in a concrete form like a newsletter, a blog or a radio program and reach out to a particular  community of people, it is called Community Media, or as we fondly call it Barefoot Media.

Keeping the evolving nature of Media in mind, this workshop aims to address the following questions:

  • What is media?
  • How does it work?
  • What is the politics of mainstream media today? Do newspapers and news channels actually cover ‘real’ news?
  • Whose voice is represented in mainstream media? Why is this happening?
  • What are the new kinds of media?
  • As citizens, can we create our own media? If yes, what is the process for such media creation?
  • How can we disseminate the media produced by us to an audience?
  • What is the relationship between media and democracy?

And many more similar concerns…..

This workshop will be conducted through a series of interactive lectures, discussions and presentations. The theoretical and practical aspects of various forms of media will be discussed and the participants could focus (individually or in group) on what they are interested to work on/learn more about. The participants will have an opportunity to engage with the local community at Kandbari and Palampur during the course of the workshop to produce media content. The participants will also produce a newsletter (or some form of media product) by the end of the workshop.  The participants will be given certificate after they complete the workshop course.

Who is this workshop for?

 If you are a person who is concerned about the world around you, disoriented with how the truth is being misrepresented by mainstream media and are motivated to take charge, create and share your own media, this workshop is for you!  Or else if you simply want to understand the nature and character of media in today’s world and want to be more informed and enlightened, this workshop is for you.

You need not be a trained journalist or work in a news-house to understand, evolve and practice media tools, communicate and share stories about your community with the world.  If you want to, you can learn the tools and strategies to do it. It is a continuous learning process.

Women participants are especially important and welcome as journalism is often considered to be the domain of men.

This workshop is designed for socio-political activists, students, amateur/aspiring journalists, panchayat workers, and any citizen who is keen to understand the dynamics of media and learn the basic skills to create and disseminate their own media.

About the Facilitator

Kiran Shaheen is a long time journalist, film maker and poetess. She has held senior positions in various media organizations in print and TV that includes BBC, NavBharat Times, Nai Duniya and Business India Television. She teaches  journalism as a senior visiting faculty at a couple of  media institutions and holds regular courses and workshop on media, political education, gender politics and social psychology. She is the founder of  Media Action Group and Aql ka Dhaba, a media activism and training center and a collective creative space for like-minded citizens respectively.

Tentative Workshop Content and Schedule:

(Please note that this is indicative, and is still evolving)

Day 1:

  1. What is Media: Definition, Perception, Character & Structure
  2. The History of World and Indian Media
  3. The Relevance of Media in Democracy
  4. Group work exercises
  5. Field Visit: Sourcing Stories

Day 2:

  1. The Politics of Media: Understanding the State, the Constitution and the Government from the context of media and representation.
  2. Rights based approach: What is it and and why it is necessary?
  3. Observation and Documentation in journalistic writing
  4. Group work exercises
  5. Field Visit: Sourcing and Constructing stories

Day 3:

  1. Filing of news stories
  2. Elements of News, How to smell News, How to write a compact news
  3. Discussion on selected Newspaper clippings and TV News/panel discussions
  4. Field Exercise: for visual documentation

Day 4:

  1. Dissemination Techniques & Case Studies
  2. Group Presentations

Day 5:

  1. Reflection & critique
  2. Follow up plan

Other Features: Live and Skype based experience sharing by some renowned Media Practitioners, Activists

About Media Action and Research Group

Media Action and Research group addresses the issue of working journalists, stringers and women journalists. The group holds workshops for students, media workers and activists on media, politics and advocacy.

Dates: 10th to 14th November, 2017.

Venue:  Sambhaavnaa Institute, Palampur, Himachal Pradesh

Contact: For more information please call 889 422 7954 or email: programs@sambhaavnaa.org

Language: A combination of Hindi and English.

Programme Contribution:  The contribution amount is Rs. 4,000 for  five days including food and accommodation. If you or your organization is unable to contribute the full amount please mention so in the form below.

Getting to Sambhaavnaa: http://www.sambhaavnaa.org/contact/how-to-reach-us/

To apply please fill the application form below:

बेयरफुट मीडिया 

कम्युनिटी जर्नलिज्म पर एक कार्यशाला 

मीडिया एक्शन एवं रिसर्च ग्रुप और संभावना की संयुक्त पहल

नवम्बर 10-14, 2017

पृष्ठभूमि 

हम लोग अपने देश, समाज और दुनिया में  घट  रही घटनाओं के बारे में जानने के लिए अखबारों और रेडियो पर निर्भर रहते आये हैं. लेकिन पिछले  10 – 15 सालों से हम सब नये किस्म के प्रसार माध्यमों के विकास के साक्षी बने  हैं. मीडिया का यह नया रूप आया और देखते देखते  सूचना और समाचार का सबसे बड़ा स्रोत बन गया. अख़बारों के रंग – रूप बदल गये, नये नये  टीवी चैनल्स आ गये, इन्टरनेट पर दर्जनों तरह के चैनल्स खुल गये. कोई कहीं ऑनलाइन पत्रिका चला रहा है, कहीं कोई अपना ब्लॉग पोस्ट कर रहा है, कहीं मुखपोथी (फेसबुक) का बोलबाला है, कहीं चिड़िया की तरह कोई ट्विटर पर चहक रहा है. हर मिनट, या कहें कि, हर क्षण खबरें, उन ख़बरों  से  जुड़ी कहानियां और एक दूसरे का समर्थन करते या एक दूसरे को काटते विचार हमारे सामने रेडीमेड व्यंजन की तरह परोसे जा रहे  हैं. एक साथ इतनी सारी जानकारी कई बार हमें  उलझन में डाल देती है – किस पर विश्वास करें, किस पर नहीं.

अगर हम इस ट्रेंड पर गंभीरता से विचार करें तो हम देखते हैं कि मीडिया के विभिन्न मंचों पर परोसे जा रहे ये समाचारी और वैचारिक व्यंजन किस प्रकार हमारे सोचने – समझने और चीजों को देखने के तरीकों पर अपना प्रभाव डाल रहे हैं. जाहिर है कि इनका प्रभाव हमारी व्यक्तिगत, सामाजिक और राजनीतिक जीवन की गतिविधियों पर पड़ रहा   है.

इस परिदृश्य में  एक नागरिक के रूप में मीडिया के स्वरूप और चरित्र को करीब से समझना बहुत आवश्यक हो जाता है. यह भी उतना ही जरूरी है कि हम मीडिया या पत्रकारिता के कौशल को अपनी क्षमता के अनुसार सीखें और अपने सामाजिक मुद्दों  और जीवन स्थितियों को लोगों के सामने लायें ताकि हमारी बात  ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे. कई अन्य माध्यमों  की तरह , पत्रकारिता भी  हमारे संवैधानिक अधिकारों को प्राप्त करने, राजनीतिक संस्थाओं  को जवाबदेह  बनाने और हमारी बहुलतावादी संस्कृति को मजबूत बनाने का एक बड़ा माध्यम है.

कार्यशाला का मकसद

जब हमें लगता है कि किसी घटना की सामाजिक, राजनीतिक या सांस्कृतिक प्रासंगिकता है, तो हम उसके बारे में अपनी राय -विचार साझा करना शुरू करते हैं – यह  छोटी सी लगने वाली प्रक्रिया आगे चल कर मीडिया का रूप लेने की संभावना रखती  है. हम इन घटनों को कच्चे माल के रूप में देखते हैं. जब यही संवाद एक अख़बार, रेडियो, इन्टरनेट की मदद से या और किसी ऐसे ही माध्यम से अपने जैसे ही बहुत से लोगों तक पहुँचाया जाता है, तो हम इसे सामुदायिक  या कम्युनिटी मीडिया कहते हैं. बेयरफुट मीडिया से यहाँ हमारा तात्पर्य यही है.

पत्रकारिता के बारे में लोगों में एक बड़ी ग़लतफ़हमी यह है कि बड़े बड़े शिक्षण संस्थानों से भारी भरकम डिग्रियां बटोरने वाले लोग ही पत्रकार या मीडियाकर्मी बन सकते हैं . यह भी भ्रांत धारणा है कि पत्रकार वही है जो बड़े अख़बारों और न्यूज़ चैनल्स में काम करता है या करती है. यह सच है कि न्यूज़ चैनल या समाचारपत्र के सम्पादकीय विभाग में काम करने वाले लोग पेशेवर पत्रकार होते हैं, लेकिन कोई भी व्यक्ति जो मीडिया को प्रस्तुत करता है और छोटे या बड़े जन समुदाय तक अपने पत्रकारीय काम को पहुंचा पाता है, पत्रकार कहलाने  का हकदार  है.

अपने गाँव में बरगद के पेड़ के नीचे या चौपाल में दुनिया भर की बातें होती हैं . अगर उन बातों को व्यवस्थित रूप से किसी दीवार पत्रिका या छोटे से न्यूज़ लेटर में प्रकाशित कर दें तो यह  पत्रकारिता ही तो है . एक हिसाब से देखें तो यह स्थानीय या कम्युनिटी मीडिया, पत्रकारिता की परिभाषा के ज्यादा निकट है, क्योंकि यहाँ सूचनाएं ज़मीन से जुड़ी हैं.

इस कार्यशाला में हम ऐसे बहुत से सवालों के जवाब खोजने की कोशिश करेंगे :

– मीडिया क्या है ?

– मीडिया कैसे काम करता है ?

– मीडिया के कितने प्रकार हैं? अलग अलग मीडिया का स्वरूप और भूमिका क्या है ?

–  मुख्यधारा की मीडिया की राजनीति क्या है? बड़े समाचार पत्र और चैनल्स ज़मीनी ख़बरों को क्यों नहीं दिखाते ?

–  मीडिया से सम्बंधित कानून क्या कहते  हैं?

–  लोकतंत्र क्या है और मीडिया से उसका क्या सम्बन्ध है ?

–  एक नागरिक के रूप में हम कैसे अपने  मीडिया का सृजन कर सकते हैं ?

– हमारे पाठक या दर्शक या श्रोता कौन होंगे?

– अपने मीडिया को हम अपने पाठकों/श्रोताओं/दर्शकों तक कैसे पहुंचाएं?

और ऐसे ही अन्य सवाल और खोजे जायेंगे उनके जवाब.

यह कार्यशाला किनके लिए है  

– अगर अपने आसपास की दुनिया में क्या हो रहा है , यह जानने और इसे उचित माध्यम से लोगों को बताने में आपकी रुचि है , तो यह कार्यशाला आपके लिए है ;

– अगर आपको लगता है कि मुख्यधारा का मीडिया आपके गाँव – जवार और शहर की बात नहीं उठाता, और आप इस स्थिति को बदलना चाहते है, तो यह कार्यशाला आपके लिए है ;

– अगर आप पत्रकारिता का कौशल सीखना चाहते हैं, तो यह कार्यशाला आपके लिए है ;

– आप एक छात्र या छात्रा हैं और लोकतंत्र, राजनीति, पर्यावरण, जेंडर आदि मुद्दों को  गहराई से समझना चाहते हैं,  तो यह कार्यशाला आपके लिए है ;

– आप शिक्षक हैं, सरकारी नौकरी में जाने के लिए  परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, सामाजिक कार्यकर्ता हैं, कम्युनिकेशन प्रोफेशनल हैं , पंचायत वर्कर हैं  या शहरी गरीबों के साथ काम करते हैं, तो यह कार्यशाला आपके लिए है;

– यदि आप पत्रकारिता के पेशे में जाना चाहते हैं या किसी मीडिया स्कूल में प्रवेश लेना चाहते हैं तो इस कार्यशाला को आप अपना फाउंडेशन कोर्स समझ सकते हैं;

इस कार्यशाला में भाग लेने के लिए  आपके पास सिर्फ दो चीजें होनी चाहिये : एक, नई बातों  को सीखने की ललक  और दूसरी, अपनी भाषा या बोली में लिखने और पढ़ने की  क्षमता.

कार्यशाला से आपको क्या मिलने वाला है 

बेयरफुट मीडिया कार्यशाला में आप लोकतंत्र की समझ के साथ साथ  मीडिया के बुनियादी उसूलों और कौशल में सक्षम हो पायेंगे. यहाँ से जाने के बाद आप डॉक्यूमेंटेशन, एडवोकेसी और पत्रकारिता जैसे काम कर सकते हैं. यहाँ हम चीजों को देखना, महसूस करना, सम्बंधित तथ्यों को एकत्र करना, उसे प्रस्तुत करने योग्य बनाना और उस प्रस्तुति को लोगों तक पहुँचाना सीखेंगे. आपका निरंतर अभ्यास आपके इस कौशल को निखारता जायेगा.

इस कार्यशाला में शिक्षण और सीखने की प्रक्रिया पूरी तरह सहभागी होगी. सामूहिक संवाद की शैली में व्याख्यान, चर्चा और लिखित – वाचिक प्रस्तुतीकरण के जरिये विषय के सैद्धांतिक और व्यावहारिक पक्षों पर विस्तार से विचार और अभ्यास किया जायेगा. प्रतिभागियों को कार्यशाला के दौरान फील्ड वर्क करना है और कार्यशाला की समाप्ति पर प्रतिभागी सामूहिक रूप से एक कम्युनिटी न्यूज़ पेपर  तैयार करेंगे.

सभी प्रतिभागियों को प्रमाणपत्र दिया जायेगा.

स्त्री प्रतिभागियों के लिए इस कार्यशाला का विशेष महत्व है क्योंकि पत्रकारिता को बहुत हद तक पुरुषों का क्षेत्र समझा जाता है.

 फैसिलिटेटर का परिचय

किरण शाहीन पिछले 35 वर्षों से पत्रकारिता, फिल्म निर्माण और शिक्षण के क्षेत्र में काम कर रही हैं. वह कवयित्री भी हैं और नागरिक और स्त्री अधिकार आन्दोलनों से गहराई से जुड़ी हैं. उन्होंने प्रिंट और टीवी दोनों में काम किया है  और कई वृत्त चित्रों का निर्माण और निर्देशन किया है. उनके कुछ वृतचित्रों को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार मिले हैं. शाहीन एक प्रशिक्षित मनोविज्ञानी और कानूनविद भी  हैं. वह शहरी और ग्रामीण समाजकर्मियों और छात्रों के साथ कम्युनिकेशन, मीडिया, राजनीति, एडवोकेसी और मनोविज्ञान पर कार्यशालाएं करती हैं. वह मीडिया एक्शन ग्रुप और अक्ल का ढाबा की फाउंडर हैं और राजनीति और जेंडर पर लिखती हैं.

मीडिया एक्शन एवं रिसर्च ग्रुप- एक परिचय

मीडिया एक्शन ग्रुप मीडिया में लोकतान्त्रिक मूल्यों को मजबूत करने के सवाल पर काम करता है. मीडिया में पत्रकारों, विशेष रूप से महिला पत्रकारों के सवालों को उठाता है. मीडियाकर्मियों, समाजकर्मियों, छात्र – छात्राओं और बेघरों के साथ मीडिया एक्शन ग्रुप रचनात्मक कार्यशालाएं आयोजित करता है.

भाषा- हिंदी व अंग्रेजी का मेल होगा

कार्यक्रम की सहयोग राशि-  पांच दिन के कार्यक्रम में भोजन और आवास का शुल्क 4000/- होगा. वे साथी जो आर्थिक सहायता को इच्छुक हैं, कृपया अपने आवेदन में इसका उल्लेख करे.  आवश्यकता के आधार पर आर्थिक मदद उपलब्ध है.

संभावना पहुँचने के लिए मार्गदर्शन- http://www.sambhaavnaa.org/contact-us/

अन्य जानकारी अथवा पूछताछ के लिए-  फोन : +91-889 422 7954, ईमेल  programs@sambhaavnaa.org

आवेदन फॉर्म के लिए ऊपर स्क्रॉल करे